Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

वक्त का घुमाव तो

वक्त का घुमाव तो
हर जिंदगी के साथ है,
अक्सर जरा से मोड़ पे
हौसला खोते हैं बुजदिल|

M.T.’Ayan’

2 Likes · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Tiwari 'Ayan'
View all
You may also like:
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
शब्दों का झंझावत🙏
शब्दों का झंझावत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
6
6
Davina Amar Thakral
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
Ranjeet kumar patre
संतोष
संतोष
Manju Singh
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
भव- बन्धन
भव- बन्धन
Dr. Upasana Pandey
हौसला
हौसला
Sanjay ' शून्य'
सोच समझकर कीजिए,
सोच समझकर कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खोखली बुनियाद
खोखली बुनियाद
Shekhar Chandra Mitra
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
जीवन की नैया
जीवन की नैया
भरत कुमार सोलंकी
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...