Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने

वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने संभाल के रखे हैं ll

65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
"ले जाते"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी के प्रति
किसी के प्रति "डाह"
*Author प्रणय प्रभात*
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
Loading...