Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2021 · 1 min read

वक़्त का सुकरात

गैर मुमकिन
है बदलना
दुनिया के
हालात को!
कोई नहीं
समझने वाला
यहां तेरे
जज़्बात को!
जिनको तूने
अमरीत बांटा
देंगे वही
तुझको ज़हर!
जाकर ख़बर
कर दे कोई
वक़्त के
सुकरात को!
Shekhar Chandra Mitra
#oshovision

Language: Hindi
381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
गुमनाम 'बाबा'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*प्रणय प्रभात*
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
सलीका शब्दों में नहीं
सलीका शब्दों में नहीं
उमेश बैरवा
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
यह कलयुग है
यह कलयुग है
gurudeenverma198
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
जो भक्त महादेव का,
जो भक्त महादेव का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
...........
...........
शेखर सिंह
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
Bidyadhar Mantry
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
"रंग का मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
मजे की बात है
मजे की बात है
Rohit yadav
आतंकवाद
आतंकवाद
नेताम आर सी
Loading...