Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

#वंदन_अभिनंदन

#वंदन_अभिनंदन
■ नमन् सनातन संस्कृति संवाहक “गीता प्रेस गोरखपुर” को।
【प्रणय प्रभात】
मानव-कल्याण व लोक-मंगल की पुनीत भावना के साथ सत्य
सनातन संस्कृति को सद्ग्रन्थों के रूप में जन-जन, घर-घर तक मात्र लागत मूल्य पर पहुंचाने के पावन संकल्प को एक सदी से साकार कर रहे मुद्रण व प्रकाशन संस्थान “गीता प्रेस, गोरखपुर” को 100वें स्थापना-वर्ष सहित राष्ट्रीय क्षितिज पर प्रतिष्ठित “गाँधी शांति सम्मान” हेतु नामांकित होने पर सहस्त्रास्त्र मंगलकामनाएं।
जीवन के लिए कल्याण का सुमार्ग प्रशस्त करने हेतु अनंत साधुवाद। संस्थान के यशस्वी संस्थापक श्रद्धेय श्री जयप्रकाश जी गोयनका व मनीषी आद्य संपादक पूज्य श्री हनुमान प्रसाद जी पोद्दार के अलौकिक प्रयास व अतुल्य पुरुषार्थ के प्रति असंख्य नमन्। संस्थान के समस्त ज्ञात-अज्ञात कर्मयोगियों व शुभेच्छु सहयोगियों को आत्मीय बधाई। जय सियाराम, जय हनुमान।।
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)
💐💐💐💐💐💐💐💐💐

1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल(इश्क में घुल गयी वो ,डली ज़िन्दगी --)
ग़ज़ल(इश्क में घुल गयी वो ,डली ज़िन्दगी --)
डॉक्टर रागिनी
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
😢बड़ा सवाल😢
😢बड़ा सवाल😢
*प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
जीवन को नया
जीवन को नया
भरत कुमार सोलंकी
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
"संगीत"
Dr. Kishan tandon kranti
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
कोई गैर न मानिए ,रखिए सम्यक ज्ञान (कुंडलिया)
कोई गैर न मानिए ,रखिए सम्यक ज्ञान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
Indu Singh
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
अतिथि
अतिथि
surenderpal vaidya
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
Loading...