Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

सरकार बिक गई

लो सत्ता बिक गई अब सवाल बिक गए,
अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक गए ।
बिक रहा है देश का पुर्जा पुर्जा जोरों से,
कल शिक्षा बिक गई अब अस्पताल बिक गए ।
….अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक रहे ।

खुद ही खुद को बेचने के खयाल बिक गए,
दल बदल के नेता जी,हरहाल बिक गए ।
घात लगा कर बैठे थे जो मौके की आस में,
वो कल न बिक सके तो फिलहाल बिक गए ।
….अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक गए ।

रोज गिर रहा है रुपया,टकसाल बिक गए,
फकीरों की झोली से कीमती माल बिक गए ।
मचा रखी है चोरी खूब मजहब के नाम पर,
कुर्सी की लालच में नए नए दलाल बिक गए ।
….अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक रहे ।

बेरोजगार माई के शिक्षित लाल बिक गए,
लिए ख़ाब नौकरी के फटे हाल बिक गए।
रह गया क्या बाकी अब और बिकने का,
इन दिनों दिन दहाड़े परीक्षा हॉल बिक गए।
….अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक रहे ।

बुजुर्गों के कमाए,पचहत्तर साल बिक गए,
उम्मीदों के आशियाने बहरहाल बिक गए।
जो आए थे सरकार बड़े ही शरीफ बन कर,
सब देखते ही देखते नमकहलाल बिक गए।
….अच्छे दिनों के बेगजब कमाल बिक रहे ।

5 Likes · 1 Comment · 377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पूछा किसी ने  इश्क में हासिल है क्या
पूछा किसी ने इश्क में हासिल है क्या
sushil sarna
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
2366.पूर्णिका
2366.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
उनकी आंखो मे बात अलग है
उनकी आंखो मे बात अलग है
Vansh Agarwal
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
gurudeenverma198
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
अपने सपने कम कम करते ,पल पल देखा इसको बढ़ते
अपने सपने कम कम करते ,पल पल देखा इसको बढ़ते
पूर्वार्थ
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
Loading...