Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।

लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
अरे सच बताऊं यारों ,घायल शेर भी दहाड़ रोता है।।

न करना कभी विश्वास,इनके पके पके बालों में
सपनों मे भी रहता है हाथ, चंद्रमुखी के गालों में ।।

कवि मंच पर बैठकर , श्रृंगार रस का बीज बोता है
अरे सच बताऊं यारों,घायल शेर भी दहाड़ रोता है।।

न करना कभी विश्वास इनके, डगमगाते हुए पैरो पर
अरे अखियां लगाते हैं ये लोग,घायल हुए शेरनियों पर

जिंदा लाश बनकर भी, इनके दिल पर इश्क़ होता है
अरे सच बताऊं यारों, घायल शेर भी दहाड़ कर रोता है।।

टुटे हुए दांतों पर, लड़ खड़ाते हुए बातों पर न करना विश्वास।
मृत्यु शैय्या पर सोते हुए भी रखता है, चंद्रमुखी का आश।।

पड़ी आंखों में झांझर इनके,अशक्त निर्बल भी होता है।
अरे सच बताऊं यारों, घायल शेर भी दहाड़कर रोता है।।
इश्क के चक्कर में,ये लोग,अपनी सारी उम्र खोता है
पकड़ गये तो जेल हुआ,पर आशाराम बहुत होता है
टीप,,कवि भाव से लिखा गया है।।

डां विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
1 Like · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
Keshav kishor Kumar
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
3487.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3487.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
Sangeeta Beniwal
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
किताब का आखिरी पन्ना
किताब का आखिरी पन्ना
Dr. Kishan tandon kranti
विश्रान्ति.
विश्रान्ति.
Heera S
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
शाश्वत सत्य
शाश्वत सत्य
Dr.Priya Soni Khare
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
■विरोधाभास■
■विरोधाभास■
*प्रणय प्रभात*
पयसी
पयसी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
Loading...