Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है

लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपसे जलते है ये आपका जलवा है..

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
हम अभी
हम अभी
Dr fauzia Naseem shad
■ प्रभात वंदन....
■ प्रभात वंदन....
*प्रणय प्रभात*
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
माईया दौड़ी आए
माईया दौड़ी आए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
दिल के अहसास बया होते है अगर
दिल के अहसास बया होते है अगर
Swami Ganganiya
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...