Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक

लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपको एक दिन सफल लोगों की कतार में खड़ा कर देता है।

पारस नाथ झा

1 Like · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
!! शब्द !!
!! शब्द !!
Akash Yadav
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यारा हिन्दुस्तान
प्यारा हिन्दुस्तान
Dinesh Kumar Gangwar
रूपगर्विता
रूपगर्विता
Dr. Kishan tandon kranti
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
NUMB
NUMB
Vedha Singh
प्रदूषण-जमघट।
प्रदूषण-जमघट।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
VINOD CHAUHAN
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*An Awakening*
*An Awakening*
Poonam Matia
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
■ अलग नज़रिया...।
■ अलग नज़रिया...।
*प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
अपना सम्मान हमें ख़ुद ही करना पड़ता है। क्योंकी जो दूसरों से
अपना सम्मान हमें ख़ुद ही करना पड़ता है। क्योंकी जो दूसरों से
Sonam Puneet Dubey
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चुनना किसी एक को
चुनना किसी एक को
Mangilal 713
*लव यू ज़िंदगी*
*लव यू ज़िंदगी*
sudhir kumar
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
शेखर सिंह
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
* कभी दूरियों को *
* कभी दूरियों को *
surenderpal vaidya
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
Loading...