Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

नज़ाकत या उल्फत

लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
विषय संवेदना
शीर्षक नज़ाकत या उल्फत
विधा स्वच्छंद कविता

लजाती बलखाती इतराती शर्माती निकली हैं ।
आज रूप अनोखा दिखता है ओह ये तो नारी शक्ति है।

श्रृंगार रस को समर्पित कुदरत के साथ जुड़ी , अलबेला अंदाज ।
खुशबू बिखेरती पल पल में अपनी जुल्फों की लतिकाओं को छेड़ती ।

हिरनी से नयन भरे भय संशय से धड़कते दिल से चाल मतवाली।
छेड़ा किसी ने तो देती गाली परहेज़ नहीं बिलकुल ये मेरी प्रिया निराली ।

अनुमान है आधा सच लेकिन समाधान नहीं।
पसीना बहा कर लिया गया निर्णय पूर्णतया उचित भी नहीं ।

व्यक्तित्व विकास पर नारी शक्ति आज
में व्यवस्थित कर्मशील कोमला अब नहीं ।
जल अग्नि वायु आकाश और धरा पर मात्र बसंत अब नहीं।

हैं फिर भी ये किसी न किसी की प्रेरणा हँस देती हर बात पर।
शिक्षा में पुरुष से आगे गुरु की क्षेणी में तो सर्वोच्च और प्रथम ।

नैसर्गिक रूप से लागू परिभाषा को करती स्थापित ,
अडिग स्वपरिभाषित हैं तो प्रिया।
तुम नारी शक्ति हो दिल पर कभी कभी बरसाती पत्थर हो ,
ये भिन्नात्मक आचरण कैसा बताइए तो जरा ।

कोमल हो कठोर नहीं व्यक्त हो मुखर नहीं
विरोध करोगी कैसे सच कहना।
सत्य की स्थापना हेतु अनमना व्यवहार
लगता है अटपटा बोलो न।

प्रिया संबोधन सुनकर हृदय में अवधारणा होती स्थापित।
सौम्या अपराजिता निर- अहंकारी
ममत्व से भरी एक अघोषित किलकारी ।

लजाती बलखाती इतराती शर्माती निकली हैं ।
आज रूप अनोखा दिखता है ओह ये तो नारी शक्ति ही है।

1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
2953.*पूर्णिका*
2953.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
निर्मल भक्ति
निर्मल भक्ति
Dr. Upasana Pandey
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
Feelings of love
Feelings of love
Bidyadhar Mantry
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
भोर
भोर
Kanchan Khanna
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
■ बे-मन की बात।।
■ बे-मन की बात।।
*प्रणय प्रभात*
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
Slok maurya "umang"
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
Loading...