Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 15, 2016 · 1 min read

लूट

मुक्तक।

राष्ट्रवाद का झंडा कुचला, नेताओं ने लातों में।
जनता को ठेंगा दिखलाया, बस बातों ही बातों में।
ख्वाब दिखाते रहे रात भर, भोली भाली जनता को।
दिया लूट कर अपना भारत, डाल विदेशी खातों में।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

1 Like · 1 Comment · 202 Views
You may also like:
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
माँ की याद
Meenakshi Nagar
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
Loading...