Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

लूट

मुक्तक।

राष्ट्रवाद का झंडा कुचला, नेताओं ने लातों में।
जनता को ठेंगा दिखलाया, बस बातों ही बातों में।
ख्वाब दिखाते रहे रात भर, भोली भाली जनता को।
दिया लूट कर अपना भारत, डाल विदेशी खातों में।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
ना जाने
ना जाने
SHAMA PARVEEN
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
प्रहरी नित जागता है
प्रहरी नित जागता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
*शराब का पहला दिन (कहानी)*
*शराब का पहला दिन (कहानी)*
Ravi Prakash
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बूढ़ी माँ .....
बूढ़ी माँ .....
sushil sarna
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
I am Yash Mehra
I am Yash Mehra
Yash mehra
मेरे भोले भण्डारी
मेरे भोले भण्डारी
Dr. Upasana Pandey
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
Loading...