Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2018 · 1 min read

“लिहाज़”

कितने अल्फ़ाज़ मिटाए हैं यूँ लिखकर मैंने,
उनकी मर्ज़ी की है जो बात, वो जानूँ कैसे।

दिल में जो बात है, होठोँ पे मैं लाऊँ कैसे,
हद गुज़र जाए तो जज़्बात छुपाऊँ कैसे।

कुछ तो ये बात वो भी दिल से समझते होँगे,
ख़ौफ़-ए-रुसवा है मगर सबको,बताऊँ कैसे।

अभी तो शाम ढल रही है, कोई बात नहीं,
गर हुई रात, क्या कह दूँ कि घर जाऊँ कैसे।

यूँ तो ज़ाहिर है मेरी हसरत-ए-दीदार मगर,
देख लूँ उनको,तो ख़ुद को मैं बचाऊँ कैसे!..

6 Likes · 1 Comment · 667 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
"वक्त निकल गया"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
gurudeenverma198
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
" सूरज "
Dr. Kishan tandon kranti
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
Dr. Vaishali Verma
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
नफ़रत
नफ़रत
विजय कुमार अग्रवाल
हम इतने भी मशहूर नहीं अपने ही शहर में,
हम इतने भी मशहूर नहीं अपने ही शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
Loading...