Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

लिख के उंगली से धूल पर कोई – संदीप ठाकुर

लिख के उंगली से धूल पर कोई
ख़ुद हंसा अपनी भूल पर कोई
याद करके किसी के चेहरे को
रख गया होंठ फूल पर कोई
संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur

155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
गुमनाम 'बाबा'
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
"मयकश बनके"
Dr. Kishan tandon kranti
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ बेशर्म सियासत दिल्ली की।।
■ बेशर्म सियासत दिल्ली की।।
*Author प्रणय प्रभात*
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
उसका चेहरा उदास था
उसका चेहरा उदास था
Surinder blackpen
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
manjula chauhan
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
Anamika Tiwari 'annpurna '
Hajipur
Hajipur
Hajipur
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
Ravi Prakash
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
ख़राब आदमी
ख़राब आदमी
Dr MusafiR BaithA
Loading...