Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

लाल, लाल सूरज क्यो उगता हमे बताओ पापा जी

लाल, लाल सूरज क्यो उगता हमे बताओ पापा जी !
हाथी, घोड़ा, भालू बनकर हमे बिठाओ पापा जी !!

गोद में लेकर रात रात भर कितना सुंदर गाते थे,
चन्दा मामा औ परियों की गीत सुनाओ पापा जी !!

देख अटैची हाथ में पापा के रोने लग जाता था,
कैसे कैसे जिद करता था लौट के आओ पापा जी !!

कितना कचरा फैलाता था घर में माँ रो देती थी,
मम्मी के चप्पल, डंडे से हमे बचाओ पापा जी !!

टिमटिम टिमटिम देखो पापा कितना सुंदर है जुगनू ,
हमे खेलना है इनके संग पकड़ ले लाओ पापा जी !!

8871887126

Language: Hindi
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*Author प्रणय प्रभात*
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
"जलेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
फांसी के फंदे से
फांसी के फंदे से
Shekhar Chandra Mitra
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौन सी खूबसूरती
कौन सी खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
बेटी
बेटी
Akash Yadav
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
💐अज्ञात के प्रति-21💐
💐अज्ञात के प्रति-21💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* निर्माता  तुम  राष्ट्र  के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
* निर्माता तुम राष्ट्र के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
Ravi Prakash
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
इश्क मुकम्मल करके निकला
इश्क मुकम्मल करके निकला
कवि दीपक बवेजा
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
Loading...