Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

लाल, लाल सूरज क्यो उगता हमे बताओ पापा जी

लाल, लाल सूरज क्यो उगता हमे बताओ पापा जी !
हाथी, घोड़ा, भालू बनकर हमे बिठाओ पापा जी !!

गोद में लेकर रात रात भर कितना सुंदर गाते थे,
चन्दा मामा औ परियों की गीत सुनाओ पापा जी !!

देख अटैची हाथ में पापा के रोने लग जाता था,
कैसे कैसे जिद करता था लौट के आओ पापा जी !!

कितना कचरा फैलाता था घर में माँ रो देती थी,
मम्मी के चप्पल, डंडे से हमे बचाओ पापा जी !!

टिमटिम टिमटिम देखो पापा कितना सुंदर है जुगनू ,
हमे खेलना है इनके संग पकड़ ले लाओ पापा जी !!

8871887126

Language: Hindi
Tag: कविता
134 Views
You may also like:
Sometimes
Suryakant Chaturvedi
■ एक_स्तुति
*प्रणय प्रभात*
सुख़न का ख़ुदा
Shekhar Chandra Mitra
कवित्त
Varun Singh Gautam
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
बेटियाँ
shabina. Naaz
एक सुबह की किरण
कवि दीपक बवेजा
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
लैपटॉप सी ज़िंदगी
सूर्यकांत द्विवेदी
नवगीत
Mahendra Narayan
⭐⭐सादगी बहुत अच्छी लगी तुम्हारी⭐⭐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकृति कविता
Harshvardhan "आवारा"
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
मेरी पहली शिक्षिका मेरी माँ
Gouri tiwari
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
धर्मपथ_अंक_जनवरी_2021
Ravi Prakash
कर्म प्रधान
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
9 इंच ज्यादा या 5+5 इंच !!
Rakesh Bahanwal
धूप
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ उजले ख्वाब देखे है।
Taj Mohammad
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“प्यार तुम दे दो”
DrLakshman Jha Parimal
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
- मेरे अपनो ने किया मेरा जीवन हलाहल -
bharat gehlot
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
'अशांत' शेखर
हे दिल तुझको किसकी तलाश है
gurudeenverma198
Loading...