Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2022 · 1 min read

“लाभ का लोभ”

“लाभ का लोभ”
_____________

नित्य बढ़ रहे, अब आबादी;
मिली जबसे हमें , आजादी;
होती , संसाधन की बर्बादी;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

फैला हुआ पूरा भ्रष्टाचार है;
लुप्त , प्रायः उच्च विचार है;
दिखता न, कोई ‘संस्कार’है;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

पढ़े-लिखे तो, अब घूम रहे;
अनपढ़ भी , कुर्सी चूम रहे;
नेतागण भी , खूब झूम रहे;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

स्वार्थी बना , सबका मन है;
देखो , कैसा विकट क्षण है;
देश से बढ़कर , आरक्षण है;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

जात-पात तो,एक बहाना है;
कहीं निगाहें, दूर निशाना है;
आदत बना, मुफ्त खाना है;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

बिन पुस्तक के,बीते सत्र है;
लक्ष्य , जाति प्रमाण-पत्र है;
जाति में, पैसों का प्रयोग है;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

शिक्षक के, कई फरियाद है;
शिक्षा कहीं न मिले आज है;
बच्चें को, धर्म-जाति याद है;
सबमें , लाभ का ही लोभ है।

धर्म भी, बन रही है आफत;
लालायित कुछ,मिले मुफत;
कौन बचायेगा, निज भारत;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।
~~~~~~~~~~~~~~

स्वरचित सह मौलिक:
…..✍️पंकज कर्ण
……….कटिहार।।

Language: Hindi
1 Like · 775 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
बह्र 2212 122 मुसतफ़इलुन फ़ऊलुन काफ़िया -आ रदीफ़ -रहा है
बह्र 2212 122 मुसतफ़इलुन फ़ऊलुन काफ़िया -आ रदीफ़ -रहा है
Neelam Sharma
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
एकाकीपन
एकाकीपन
Shyam Sundar Subramanian
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
rkchaudhary2012
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
शेखर सिंह
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
"कथनी-करनी"
Dr. Kishan tandon kranti
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मन की संवेदना
मन की संवेदना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
पात कब तक झरेंगें
पात कब तक झरेंगें
Shweta Soni
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
Monika Arora
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Loading...