Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2022 · 1 min read

लाचार बचपन

छोटी हूँ साहब अभी नादान हूँ,
पढ़ाई क्या है इससे अनजान हूँ,
अभी अभी पता चला है कि,
स्कूल में पढ़ाई कराई जाती है,
शिक्षा ज्योत वहाँ जलाई जाती है,
बच्चों के अंधेरे जीवन को ,
वहाँ रोशन किया जाता है,
जीवन जीने के सब गुर,
वहाँ सिखाया जाता है
साहब मैं अक्षर सीखना चाहती हूँ
दुनियाँ को मैं पढ़ना चाहती हूँ।।

क्या कसूर है मेरा देखो,
कि मेरे ऊपर छत नही,
अनाथ हूँ इस दुनियाँ में,
माँ-बाप का हाथ सर नही,
नही पता मेरी माँ की सूरत,
ममता नही मैंने पाई है,
माँ का दुलार कैसा होता है,
कभी जान नही पाई है,
मुझे भी ममता का साथ चाहिए,
मुझे भी पढ़ना है स्कूल चाहिए।।

छोटी हूँ साहब अभी नादान हूँ
जीवन क्या होता है नही मालूम।
मुझे स्कूल जाना है साहब
मुझे भी अक्षर ज्ञान चाहिए
इस दुनियाँ में एक छोटी सी
अपनी एक पहचान चाहिए।
मैं पढ़ाई करके खूब बढ़ना चाहती हूँ
अपने ही पंख से ऊपर उड़ना चाहती हूँ
मैं पढ़ सकू ऐसा एक स्कूल चाहिए
जहाँ कोई न पूछें लाचारी मेरी
साहब ! ऐसा एक आशीर्वाद चाहिए।।

लेखक
श्याम कुमार कोलारे
छिन्दवाड़ा, मध्यप्रदेश
मो. 9893573770

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस क़दर
इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नाही काहो का शोक
नाही काहो का शोक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
■
■ "शिक्षा" और "दीक्षा" का अंतर भी समझ लो महाप्रभुओं!!
*प्रणय प्रभात*
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
चाह ले....
चाह ले....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
होली
होली
Kanchan Khanna
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
Avinash
Avinash
Vipin Singh
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
Loading...