Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी

लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
सारी दुनिया है भोले एक शरण तेरी
लहर-लहर दीखे……
कण-कण में ओ भोले, तू है समाया
जो कुछ भी हूँ आज, तुझी से है पाया
कयोंकि तुझी पे ही आँखें सबकी ठहरी
लहर-लहर दीखे……
तू ही इक काशी है, तू ही इक काबा
है तुझसे बड़ा ना, कोई जग में बाबा
तू ही तो भोले सबका है इक प्रहरी
लहर-लहर दीखे……
–महावीर उत्तरांचली

1 Like · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
Anis Shah
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
💐अज्ञात के प्रति-82💐
💐अज्ञात के प्रति-82💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
साहित्य मेरा मन है
साहित्य मेरा मन है
Harminder Kaur
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
Surinder blackpen
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
*अपने अपनों से हुए, कोरोना में दूर【कुंडलिया】*
*अपने अपनों से हुए, कोरोना में दूर【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
#अपील-
#अपील-
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
Loading...