Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो

लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
आदमी – आदमी से अब बोलता कम है
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

2 Likes · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम हमेशा साथ रहेंगे
हम हमेशा साथ रहेंगे
Lovi Mishra
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
"चोट"
Dr. Kishan tandon kranti
परिंदों का भी आशियां ले लिया...
परिंदों का भी आशियां ले लिया...
Shweta Soni
जुदाई
जुदाई
Davina Amar Thakral
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
विनती
विनती
Kanchan Khanna
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
काहे का अभिमान
काहे का अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रजा शक्ति
प्रजा शक्ति
Shashi Mahajan
*गणेश जी (बाल कविता)*
*गणेश जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
My love at first sight !!
My love at first sight !!
Rachana
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
पूर्वार्थ
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ आज का आखिरी शेर।
■ आज का आखिरी शेर।
*प्रणय प्रभात*
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3198.*पूर्णिका*
3198.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
Lokesh Sharma
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
Loading...