Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

*लम्हों*

गुजरे लम्हों को जाने दो
इक नयी सुबह को आने दो
दिल से अब सारे गम भूलो
तुम गीत खुशी को गाने दो
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
कितनी यादों को
कितनी यादों को
Dr fauzia Naseem shad
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
कविता ही हो /
कविता ही हो /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
Mahender Singh
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
समर कैम्प (बाल कविता )
समर कैम्प (बाल कविता )
Ravi Prakash
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
मंजिल एक है
मंजिल एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
Surinder blackpen
*आदत*
*आदत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
Loading...