Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*लम्हों*

गुजरे लम्हों को जाने दो
इक नयी सुबह को आने दो
दिल से अब सारे गम भूलो
तुम गीत खुशी को गाने दो
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

163 Views
You may also like:
इंतजार
Anamika Singh
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
Kanchan Khanna
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
कर्म का मर्म
Pooja Singh
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Deepali Kalra
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...