Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

#लघुकथा

#लघुकथा
■ श्रीमान समाजसेवी…!!
【प्रणय प्रभात】
महान समाजसेवी श्रीमान द्वारिकानाथ आपदा पीड़ितों को भोजन के पैकेट बाँट कर लौटे। गुदगुदे सोफे पर पसर कर फेसबुकी दुनिया में अपने महिमा-मंडन वाली पोस्ट पर लाइक्स और कमेंट्स का जायज़ा लेने में जुट गए।
पास ही बैठे दाएं-बाएं राहत कार्य से जुड़े ताज़ा अपडेट्स में अलग से जुटे थे। जय-जयकार का शोर जारी था। जिसमें श्रीमान समाजसेवी की सगी मौसी का करुण क्रंदन दब कर दम तोड़ रहा था। पता चला कि बाढ़ ने मौसी को पूरी तरह सड़क पर ला दिया था।
दुःख की बात यह थी कि उसकी सुध लेने वाला कोई नहीं था। श्रीमान समाजसेवी भी। क्योंकि उनके बाप ने कमज़ोर खानदान में ब्याही अपनी साली से रिश्ते पहले ही ख़त्म कर लिए थे। उनके लिए सारी दुनिया परिवार थी। सिवाय आर्थिक आधार पर त्यागी गई साली के।
मितरों! निशाना सिर्फ़ नुमाइश पसंदों और जुमलेबाज़ों पर है। निस्वार्थ सेवाभावी अकारण ख़ार न खाएं और गुस्ताख़ी माफ़ करें।।

●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
23/62.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/62.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कुंडलिया. . .
कुंडलिया. . .
sushil sarna
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
विश्वास करो
विश्वास करो
TARAN VERMA
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
Loading...