Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 2 min read

#लघुकथा-

#लघु_व्यंग्य_कथा-
■ बस दो सवाल और लोकतंत्र बहाल…।।
【प्रणय प्रभात】
मांगीलाल सुबह-सवेरे राफेल की तरह गड़गड़ा रहा था। लगातार बोलते हुए उसके मुंह से झाग निकल-निकल कर उड़ रहे थे। जुमलों की झड़ी सी लगी हुई थी। एक-एक काम उंगलियों पर गिनाया जा रहा था। पड़ौसी छतों और झरोखों से लाइव शो का लुत्फ़ ले रहे थे। बीवी कोने में सिर झुकाए बैठी थी। पौन दर्ज़न बच्चे इधर-उधर छुप-कर शेर की तरह दहाड़ते अपने बाप का नॉन-स्टॉप भाषण सुन रहे थे।
माहौल अपने पक्ष में मान कर मांगीलाल भरपूर जोश में था। मामला सब के बीच अपने पुरुषार्थ की खुली नुमाइश का जो था। शायद उसने ठान लिया था कि आज अपना एक-एक अहसान गिना कर ही मानेगा। यही वजह थी कि वो सब कुछ धड़ाधड़ उगल रहा था। बीवी की ख़ामोशी उसके हौसले को आसमान दे रही थी।
उसने बच्चों की पैदाइश और परवरिश से लेकर रोटी-पानी, पढ़ाई-लिखाई, दवा-दारू सब गिना दिए। मन था कि बक-बक पर लगाम लगाने को राज़ी नहीं था। देखते ही देखते मामला घर की मरम्मत, पानी-बिजली से लेकर रिश्ते-नातों पर होने वाले खर्चों तक आ गया। हद तो तब हुई जब उसने झोंक-झोंक में बीवी की डिमांड को भी रिमांड पर ले डाला। बस यही वक़्त था जब सारा पांसा पलट गया।
गुस्से में तमतमा कर उठ खड़ी हुई बीवी के सीधे-सपाट बोल और तीखे तेवरों ने मांगीलाल के सारे दावों की हवा निकाल दी। ब्रह्मोस मिसाइल की तरह गरज कर बरसी बीवी ने बस एक सवाल दागा कि परिवार का मुखिया होने के नाते ये सब वो नहीं करता तो क्या पड़ौसी करता? भड़कती बीवी ने कड़कती आवाज़ में यह बोलकर भी उसकी बोलती पर ढक्कन लगा दिया कि उसने जो भी किया, वो सब पुश्तैनी ज़मीन-जायदाद को ठिकाने लगा कर किया। थोथी शान और दिखावे के लिए ज़माने भर से कर्ज़ा ले रखा है सो अलग। जो कभी न कभी बेचारी औलादों को ही चुकाना पड़ेगा। इसमें काहे की मर्दानगी और कैसा अहसान?
इन दो तीखे सवालों से मांगीलाल की सिट्टी-पिट्टी गुम हो चुकी थी। उसके खोखले दावों का फुकना उलाहने की सुई ने बर्स्ट कर दिया था। वो अपनी औक़ात को भांपते हुए हैसियत के पाजामे में फिर से फिट हो चुका था। उसे शायद यह सबक़ मिल गया था कि ना तो वो कोई नेता है और ना ही उसकी बीवी निरीह जनता, जो गूंगी रह कर बरसों-बरस इतना सब कुछ सुन सके और झेलती रहे। कुल मिलाकर तानाशाही वाले घर में लोकतंत्र की बहाली हो चुकी थी। इस क्लाइमेक्स से अड़ौसी-पड़ौसी भी खुश दिखाई दे रहे थे। खुशी का कारण था मांगीलाल की लू सरे-आम उतरना। वो भी उस मांगीलाल की, जो भारी अकड़ैल और फेंकू था और अपने आगे किसी को कुछ नहीं सनझता था।

●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
Phoolo ki wo shatir  kaliya
Phoolo ki wo shatir kaliya
Sakshi Tripathi
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
Ravi Prakash
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
"चंचल काव्या"
Dr Meenu Poonia
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
"मानो या ना मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
#Secial_story
#Secial_story
*Author प्रणय प्रभात*
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
💐अज्ञात के प्रति-68💐
💐अज्ञात के प्रति-68💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
इश्क का भी आज़ार होता है।
इश्क का भी आज़ार होता है।
सत्य कुमार प्रेमी
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
Loading...