Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 2 min read

#लघुकथा

#लघुकथा
■ फिर टूट गया मुग़ालता
【प्रणय प्रभात】
“अब तो रात के 12 बज गए यार! खाना खा लो तुम लोग भी। ताकि कम से कम आज तो टाइम पर सो सको।”
सुशांत ने सुहानी से कहा। जो सुबह से दस मिनट भी चैन से नहीं बैठी थी और दिन का खाना भी ढंग से नहीं खा पाई थी। वजह था गर्मी की छुट्टियों में मायके में सभी रिश्तेदारों का जमावड़ा। सुहानी और सुशांत सहित कुल चार-पांच प्राणी घर में थे। बाक़ी मल्टीप्लेक्स में मूव्ही देखने गए हुए थे। जिनकी वापसी में थोड़ा सा वक़्त बाक़ी था। यही कारण था कि सबके साथ खाना खाने की बात कह कर सुहानी ने अपने पति को टाल दिया। सुशांत कुछ कहना चाहता था पर कुछ पुराने और कड़वे अनुभवों ने उसे कुछ भी कहने से रोक दिया।
देखते ही देखते क़रीब पौन घण्टा और बीत गया। दर्ज़न भर से अधिक परिजनों की टोली मूव्ही की चर्चा करते हुए घर में दाखिल हुई। महज दस मिनट बाद सब डाइनिंग टेबल पर जम चुके थे। इनमें पहले से घर में मौजूद कोई प्राणी नहीं था। सुहानी ओपन किचन में खाना गर्म कर रही थी। सुशांत की ताना मारती हुई सी निगाहें उसकी झेंपी हुई सी नज़रों से दो बार टकरा चुकी थी।
बेहद थकी हुई सुहानी को उसके उलाहने के डर से कहीं ज़्यादा भरोसा अब भी अपने रिश्तों पर था। तभी अचानक मंझली भाभी की आवाज़ ने उसकी डगमगाती आस को सहारा देने का काम किया। अपने नाम की पुकार सुनते ही गदगद सुहानी ने एक गर्वित सी निगाह सुशांत की ओर फेंकी। जो शायद बताना चाहती थी कि उसके अपनों को भी उसकी उतनी ही परवाह है, जितनी कि उसे। यह और बात है कि इस उछाली गई निगाह को झुकाने का काम भाभी की पूरी बात ने कर दिया। दरअसल भाभी की पुकार उसके लिए आमंत्रण न होकर आदेश भर थी। जो उसे सादा चावल को फ्राई करने के लिए कह रही थी। सुशांत बिना कुछ बोले उठ कर गेस्ट-रूम की ओर चल दिया।
अगले एक घण्टे बाद वो नींद की गोद में था। दूसरी तरफ सुहानी हंसी-ठट्ठे के बीच जारी डिनर के ख़त्म होने की बाट जोह रही थी। ताकि वो भी चैन से दो रोटी पेट में डाल कर तीन-चार घण्टे की नींद ले सके और सुबह जल्दी उठ कर उन सबको बेड-टी सर्व कर सके, जिनका आज सोने का इरादा लग नहीं रहा था।
■प्रणय प्रभात■
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मनभावन
मनभावन
SHAMA PARVEEN
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
2978.*पूर्णिका*
2978.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
.
.
शेखर सिंह
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
भ्रम
भ्रम
Dr.Priya Soni Khare
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुलोचना
सुलोचना
Santosh kumar Miri
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतना तो अधिकार हो
इतना तो अधिकार हो
Dr fauzia Naseem shad
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
*Author प्रणय प्रभात*
हिमनद
हिमनद
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
Deepak Kumar Srivastava
Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam"
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"पहली नजर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...