Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

लगाव

माना बदलाव जरूरी है।
परिवर्तन स्वभाविक है।
पर हमारे लगाव का क्या ?
जो होगा आप से उस अलगाव का क्या ?
क्या खोया, कैसे गिनवा पाएंगे ?
हीरे से अनमोल रत्नों के, प्रेम से वंचित रह जाएंगे।
अब कौन हेलमेट न पहनने पर, हमें सबक सिखाएगा ?
घर के मुख्य द्वार पर खड़े रहकर, कौन फूलों सा मुस्काएगा।

भारत का मान बढ़ना है; बच्चों को भी भारतीय होने पर गर्व करना सिखलाना है।

अब कौन बच्चों से पहले,बड़ों को भी आभार व्यक्त करना
सिखलाएगा ?

एक- दो परिवार वालों की सेहत जरा सी ख़राब हो जाने पर कौन योग कक्षाएं लगवाएगा।

अब कौन हमारी अच्छी बातें पढ़कर हमें प्रेरित करने आएगा।

अब कौन इन कच्ची मिट्टी के मटकों को, हल्के हाथों की थाप देकर सुदृढ़,सक्षम और कमाऊ बनाएगा।

जितना घर के बड़ेजनों ने हमें सिखलाया है।
अब कौन हमें सिखलाएगा ?
जब घर में आपके कमरे से बाहर से आते – जाते याद आओगे आप…………..

तो कौन हमें अब दिलासा देकर समझाएगा।
आभार सहित
रजनी कपूर

Language: Hindi
1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajni kapoor
View all
You may also like:
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
मईया का ध्यान लगा
मईया का ध्यान लगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम पल्लवन
प्रेम पल्लवन
Er.Navaneet R Shandily
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
DrLakshman Jha Parimal
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
Gaurav Pathak
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
विश्वास
विश्वास
sushil sarna
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
VINOD CHAUHAN
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
मेरे पांच रोला छंद
मेरे पांच रोला छंद
Sushila joshi
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
Harminder Kaur
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिन्दगी तेरे लिये
जिन्दगी तेरे लिये
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
"आलिंगन"
Dr. Kishan tandon kranti
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...