Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

लगाव का चिराग बुझता नहीं

लगाव का चिराग बुझता नहीं
नेह का तेल बिखरता नहीं
ममता की लौ हमेशा बढ़ती रहती
बस वो हर किसी को दिखती नहीं ।
जग में छोटा सा प्यारा शब्द है मां
उस शब्द पर जरा गौर फरमाना,
स्नेह को उसका दिल से महसूस करना
अहसास को ह्रदय से समझना।
स्मृतियां आज भी सहज कर रखी है,
बातें आज भी कानों में गूंजती है,
और सोचती है बताने से क्या।
– सीमा गुप्ता अलवर राजस्थान

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
Sushila joshi
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"आपका वोट"
Dr. Kishan tandon kranti
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
2785. *पूर्णिका*
2785. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
Rj Anand Prajapati
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
Loading...