Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी

(शेर)- लगाने को भोग हम तुमको,लाये हैं थाली सजाकर।
करो स्वीकार यह खीर चूरमा ,वीर तेजाजी तुम आकर।।
———————————————————-
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी।
करो स्वीकार चूरमा खीर, आकर वीर तेजाजी।।
लगाये तुमको हम यह भोग———————–।।

ताहड़ के घर जन्में, लेकर शिवजी का अवतार।
माता तुम्हारी रामकुंवारी,तुम पेमल के भरतार।।
सजाकर लाये हम थाली , कुंवर वीर तेजाजी।
करो स्वीकार दाल- बाटी,आकर वीर तेजाजी।।
लगाये तुमको हम यह————————-।।

होठ गुलाबी, लाल गाल हैं, काले केश तुम्हारे।
पंचरंगी पगड़ी है तुम्हारी, हाथ में भाला तुम्हारे।।
लगाये दशमी को तुमको भोग,कुंवर वीर तेजाजी।
करो स्वीकार पुए पकवान, आकर वीर तेजाजी।।
लगाये तुमको हम यह ————————-।।

करें याद कृषक तुमको, खेतों की खुशहाली में।
तुम हो उपकारी देवता, कृषक की खुशहाली में।।
लीलण घोड़ी पे होके सवार,आवो वीर तेजाजी।
करो स्वीकार लापसी चाव,कुंवर वीर तेजाजी।।
लगाये तुमको हम यह ———————–।।

तुमको पुकारे गौमाता, वीर धोलिया गौरक्षक।
तुम वचन के पक्के हो, तुम सर्पों के भी रक्षक।।
मानो लाछा, राजल की बात, कुंवर वीर तेजाजी।
करो स्वीकार बाटी चूरमा, आकर वीर तेजाजी।।
लगाये तुमको हम यह————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
पंचगव्य
पंचगव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
■ याद रहे...
■ याद रहे...
*Author प्रणय प्रभात*
"प्लेटो ने कहा था"
Dr. Kishan tandon kranti
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
3201.*पूर्णिका*
3201.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...