Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

“लक्ष्य”

अब न कुछ करना बहाना।
लक्ष्य इक, तुम भी बनाना।।

हे पथिक, तू रह अडिग,
अविरल चला चल।
सारी बाधाएं भगाना,
मार्ग के कँटक हटाना।
अब न कुछ करना बहाना।
लक्ष्य इक, तुम भी बनाना।।

स्वयंवर की, थी दुपहरी,
आँख ज्यों, अर्जुन ने भेदी।
उसने बस, इतना था जाना,
चूक ना जाए, निशाना।।
अब न कुछ करना बहाना।
लक्ष्य इक, तुम भी बनाना।।

ज्यों मिले सरिता से सागर,
तू भी रखकर शीश, गागर,
प्रेमरस सबको पिलाना,
घृणा को, जड़ से मिटाना।
अब न कुछ, करना बहाना।
लक्ष्य इक, तुम भी बनाना।।

चाँदनी रातों मेँ जगकर,
गीत “आशा”मय सा लिखकर।
सिर के नीचे तुम छिपाना।
जब मिलेँ, उनको सुनाना।।
अब न कुछ करना बहाना।
लक्ष्य इक, तुम भी बनाना..!

##———–##———–##———–##

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
■ बेबी नज़्म...
■ बेबी नज़्म...
*Author प्रणय प्रभात*
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
2500.पूर्णिका
2500.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अकेले रहना"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ Rãthí
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
*ठेला (बाल कविता)*
*ठेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...