Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2017 · 1 min read

रोशनी की जड़े

” रोशनी की जड़ें ”
———————

जब तक सारे संसार में ,
अंधकार छाया होगा |
हर मानव का आसरा ,
“दीप” का साया होगा ||

एक अकेला सूरज अपना ,
लड़ नहीं सकता तम से !
आधी दुनिया ही अपनी ,
रोशन है उसके दम से ||

हर हाथ में दीपक जलता है ,
तम आगे -आगे चलता है |
गहरी जड़े रोशनी की हैं ,
फिर भी अंधेरा छलता है ||

कितने रंग बदलता जीवन ,
कितना ऊँचा-नीचा है !
कहीं कालिमा टिकी नहीं ,
रोशनी से सींचा है ||

अद्भुत है करतार हमारा ,
कितने सृजन करता है |
कहीं फुलझड़ी तारों की ,
कहीं मन को रोशन करता है ||
———————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
अबला नारी
अबला नारी
Neeraj Agarwal
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
" सौग़ात " - गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा-
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा- "जानते हो, मेरा बैंक कौन है...?"
*प्रणय प्रभात*
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ता थैया थैया थैया थैया,
ता थैया थैया थैया थैया,
Satish Srijan
प्रभु संग प्रीति
प्रभु संग प्रीति
Pratibha Pandey
अनेक रंग जिंदगी के
अनेक रंग जिंदगी के
Surinder blackpen
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
पूर्वार्थ
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
मैं खाना खाकर तुमसे चैट करूँगा ।
Dr. Man Mohan Krishna
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
Loading...