Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

रोगों से है यदि मानव तुमको बचना।

रोगों से है यदि मानव तुमको बचना।
तो पौधों का लालन पालन करना।।

प्राण वायु देते अरु वर्षा भी हैं लाते।
पता नहीं फिर वन क्यों उजाड़े जाते।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 1 Comment · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
बुद्ध पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा
Dr.Pratibha Prakash
3524.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3524.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
हम अरबी-फारसी के प्रचलित शब्दों को बिना नुक्ता लगाए प्रयोग क
हम अरबी-फारसी के प्रचलित शब्दों को बिना नुक्ता लगाए प्रयोग क
Ravi Prakash
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
याद रहे कि
याद रहे कि
*प्रणय प्रभात*
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
VINOD CHAUHAN
Loading...