Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

रोकोगे जो तुम…

रोकोगे जो तुम प्यार से, कुछ पल को ठहर जाऊँगी।
वरना आम मुसाफिर की तरह, मैं भी गुजर जाऊँगी।

मैं एक क्षणिक झोंका हवा का, कोई बिसात न मेरी,
ढूँढोगे अगर मुझे कभी फिर, मैं कहीं नजर न आऊँगी।

आज जो करनी बात कर लो, क्या खबर किसी को कल की,
क्या पता कल तक बिखर कर, किस गली सिमट मैं जाऊँगी।

बड़ी ही लंबी दूरियाँ हैं , मेरे – तुम्हारे बीच में,
लाख जतन करके भी इनको, पार न मैं कर पाऊँगी।

दे रही है कब से दस्तक, मौत खड़ी मेरे द्वार पर,
साथ उसके जल्दी अब, एक नए सफर पर जाऊँगी।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
3 Likes · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"कलम का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
*प्रणय प्रभात*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
वक्त जब बदलता है
वक्त जब बदलता है
Surinder blackpen
3003.*पूर्णिका*
3003.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
रोबोटयुगीन मनुष्य
रोबोटयुगीन मनुष्य
SURYA PRAKASH SHARMA
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
नफरतों को भी
नफरतों को भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...