Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2023 · 1 min read

रेलगाड़ी

लौह पथ पर चलने वाली,
सबके मन को भाने वाली,
एक इंजन, कई डब्बों वाली,
कई गंतव्यों तक जाने वाली,
रेलगाड़ी;
पूरे भारत को एक सूत्र में,
बांध रखी है प्रेम सूत्र में,
नदी मैदान व रेगिस्तान,
दौड़ती सम्पूर्ण हिंदुस्तान,
रेलगाड़ी….
डीजल, बिजली इंधन इसके,
स्वदेश निर्मित इंजन इसके,
नित नए आविष्कार का प्रतिफल,
दुरंतो, राजधानी, वंदे मातरम्,
रेलगाड़ी…
कई तरह के दर्जे इसमें,
साधारण, ए० सी०, शयनयान,
डाक, पार्सल व रसोई यान,
सबको साथ ले चलने वाली,
रेलगाड़ी…
ड्राइवर, गार्ड, पुलिस मैन,
टी टी, एस एम, लाइन मैन,
चाय समोसा बेचने वाले
सबकी गृहस्थी चलाने वाली,
रेलगाड़ी…

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
भाई
भाई
Kanchan verma
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
नन्ही
नन्ही
*प्रणय प्रभात*
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr .Shweta sood 'Madhu'
As gulmohar I bloom
As gulmohar I bloom
Monika Arora
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
सवाल
सवाल
Manisha Manjari
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
R. H. SRIDEVI
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Harish Chandra Pande
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
फिल्म तो सती-प्रथा,
फिल्म तो सती-प्रथा,
शेखर सिंह
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
3359.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3359.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Udaan Fellow Initiative for employment of rural women - Synergy Sansthan, Udaanfellowship Harda
Udaan Fellow Initiative for employment of rural women - Synergy Sansthan, Udaanfellowship Harda
Desert fellow Rakesh
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...