Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

रूपेश को मिला “बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023”

बिहार के सिवान जिले के चैनपुर गाँव के रूपेश कुमार को हिन्दी अख़बार कन्ट्री ऑफ इंडिया की ओर से बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान-2023 से अलंकृत किया गया | बिहार के रूपेश कुमार को साहित्य के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए यह सम्मान दिया गया है। इस सम्मान का आयोजन प्रसिद्ध अखबार ‘कन्ट्री ऑफ इंडिया’ की ओर से किया गया था | यह सम्मान ब्यूरो ऑफ लखनऊ मंडल की रीमा सिन्हा एव सम्पादक अब्दुल अजीज सिद्दिकी द्वारा दिया गया। इससे पहले 2023 में ही रूपेश को दि ग्राम टुडे पत्रिका की ओर से “टिजीटी साहित्य सेवी सम्मान- 2023”, डॉ. अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय हाल, नई दिल्ली में ‘कबीर कोहिनूर सम्मान-2023’, एव कीर्ति सम्मान – 2023 से नवाजा गया था । साहित्य/शिक्षा/सामाजिक जगत मे इनकी पृथक पहचान है। इससे पहले इन्हें राष्ट्रीय,अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तीन सौ से अधिक साहित्य, सामाजिक/शिक्षा सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है। रूपेश की चार पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। रूपेश के संपादन में भी तीन साहित्यिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। रूपेश अभी शोध के साथ ही प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। रूपेश अद्भुत प्रतिभा के धनी हैं, जिसके कारण इनकी रचनाओं को देश- विदेशों के पत्र पत्रिकाओं में जगह मिल चुकी है। भौतिक विज्ञान का छात्र होते हुए भी साहित्य मे अपना पैर जमाए हुए हैं। रूपेश वर्तमान मे साहित्यिक, सामाजिक एवं संस्कृति संस्था अन्तर्राष्ट्रीय सखी साहित्य परिवार(रजि) के बिहार अध्यक्ष एवं ज्ञानोत्कर्ष अकादमी, भारत के संस्थापक हैं। इस उपलब्धि पर इनको समस्त परिवार के सदस्यों इत्यादि गणमान्य व्यक्तियों ने बधाई दी |

Language: Hindi
1 Like · 439 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तफ्तीश"
Dr. Kishan tandon kranti
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कण कण में है श्रीराम
कण कण में है श्रीराम
Santosh kumar Miri
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
Harminder Kaur
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
पूर्वार्थ
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
Loading...