Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

रूठी बीवी को मनाने चले हो

रूठी बीवी को मनाने चले हो,
खाली हाथ को बढ़ाने चले हो।
हाल तो देखो पहले कमान की,
खाली तीर को चढ़ाने चले हो।
जरा तैयार करो अपने आप को,
यूँ किसी को बनाने चले हो।
लिया भी नहीं कोई तोहफा भी ,
खाली प्यार को जताने चले हो।

– प्रेम फर्रुखाबादी

Language: Hindi
Tag: Poem
1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3098.*पूर्णिका*
3098.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रदीप : श्री दिवाकर राही  का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
Ravi Prakash
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
😢चार्वाक के चेले😢
😢चार्वाक के चेले😢
*प्रणय प्रभात*
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मासी की बेटियां
मासी की बेटियां
Adha Deshwal
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
Loading...