Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

रूठना

जो ज़रा सी बात पर ही, मुँह बनाकर रूठ जाते।
इन प्रतीक्षित पुतलियों की वेदना क्या जान पाते!

जानती हूँ मैं प्रतीक्षा, दिन विरह के काटती है।
प्रेमिकाओं को ये दुनिया, धैर्य से ही जानती है।
किंतु मैं लाऊँ कहाँ से, धैर्य राधा, उर्मिला सा,
मान मैं तो लूँ मगर क्या, आँख भी कुछ मानती है !

आग पर घृत ही न पड़ता, गर तनिक भी मुस्कुराते।

रातरानी तुम बताओ, रूठना क्या ठीक होता ?
बात को कर के बतंगड़, क्या झगड़ना ठीक होता?
ऐसे प्यारी और भोली रातरानी को झटक कर
चंद्रमा का बादलों में, क्या भटकना ठीक होता ?

शाम को घर अपने वापस, सारे बुध्दू लौट आते।

रूठ जाऊँ गर कहीं मैं, तब ठिकाने होश आएं,
ऑफ कर लूँ फोन, उनको दिन में तारे दीख जाएं।
मैं मगर हारी हृदय से, रूठना आया न मुझको।
और वो स्वरहीन मन की वेदना, क्या जान पाएं।

तब समझते छटपटाहट जब कभी मुझको मनाते।
इन प्रतीक्षित पुतलियों की वेदना क्या जान पाते!
© शिवा अवस्थी

Language: Hindi
Tag: गीत
4 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
Seema Verma
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
स्वयं की खोज कैसे करें
स्वयं की खोज कैसे करें
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
खिड़की पर किसने बांधा है तोहफा
खिड़की पर किसने बांधा है तोहफा
Surinder blackpen
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
याद में
याद में
sushil sarna
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
शेखर सिंह
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
Loading...