Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

रुचि पूर्ण कार्य

असल जिंदगी में हमें,तब आता आनंद।
जब करते हैं हम वही,जो होता हमें पसंद।।

कभी खत्म होती नहीं,पा लेने की दौड़।
सोच-समझ कर कीजिये, पहले खुद पर गौर।

लाभ कमाने के लिए,चुन लेते व्यवसाय।
मगर तनिक भी रुचि नहीं,कैसे आये आय।।

भाग रहें हैं किस तरफ,हमें नहीं है ज्ञात।
ऐसे अंधी दौड़ में,मिलता केवल मात।।

होता है हर व्यक्ति में,अनुभव भरें लगाव।
उन लगाव को मार कर,डालें नहीं दबाव।।

जिसमें रुचि हो आपकी,मिले अगर वो काम।
जीवन सुखमय बीतता,अच्छे आते परिणाम।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3302.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3302.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
#Om
#Om
Ankita Patel
आंख खोलो और देख लो
आंख खोलो और देख लो
Shekhar Chandra Mitra
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
वो मुझसे आज भी नाराज है,
वो मुझसे आज भी नाराज है,
शेखर सिंह
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
Believe,
Believe,
Dhriti Mishra
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-497💐
💐प्रेम कौतुक-497💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
■ जय हो।
■ जय हो।
*Author प्रणय प्रभात*
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...