Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

रिश्तों को कभी दौलत की

रिश्तों को कभी दौलत की
नज़र से न देखना
साथ निभाने वाले अक्सर
गरीब होते है

1 Like · 730 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
*हमें बेटी बचाना है, हमें बेटी पढ़ाना है (मुक्तक)*
*हमें बेटी बचाना है, हमें बेटी पढ़ाना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
#शुभ_रात्रि
#शुभ_रात्रि
*प्रणय प्रभात*
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
कहना क्या
कहना क्या
Awadhesh Singh
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
Lokesh Sharma
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
गुनाह ना करके भी
गुनाह ना करके भी
Harminder Kaur
Loading...