Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2019 · 1 min read

रिश्ते

रिश्ते मरने लगते हैं,
धीरे -धीरे
जब
अनकही कथनों को
कहा माने जाने लगता है।
नदी के निर्मल प्रवाह में
जब-
कैक्टस उगने लगता है
और धीरे -धीरे
रिश्तों की सांसें थमने लगती है।
कौन उगाता है ?
बेवज़ह, वेवक़्त यह कैक्टस,
रिश्तों की मेड़ पर।
और कौन तोड़ता है?
चुपके से मेड़ को,
क्या यह वही तो नही,
जो परछाई बनने का
स्वांग करता है, दम्भ भरता है
और उगाता है
जीवन की निर्मल भूमि पर
नित नई प्रजाति का
कैक्टस।
कहते हैं,
कैक्टस रिश्तों को कंटीला बनाता है
पर
इस अबोले वनस्पति का क्या दोष?
हाँ, सावधान,
जीवन को कैक्टस न बनने दें
रिश्तों को मरने न दें
देखें,
अमरवेल की तरह,
पनप तो नहीं रहा
आस-पास कोई
छद्म कैक्टस।

Language: Hindi
5 Likes · 1 Comment · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
"रोशनी की जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅fact🙅
🙅fact🙅
*प्रणय प्रभात*
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
DrLakshman Jha Parimal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
ख़्वाहिशों को कहाँ मिलता, कोई मुक़म्मल ठिकाना है।
ख़्वाहिशों को कहाँ मिलता, कोई मुक़म्मल ठिकाना है।
Manisha Manjari
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन की परख
जीवन की परख
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
मानवता
मानवता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
*मैं और मेरी चाय*
*मैं और मेरी चाय*
sudhir kumar
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...