Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2018 · 1 min read

रिश्ते

रिश्तों के धागे कभी कमजोर दिखते,
कभी, मजबूत नजर आते है।
निर्णयों की घड़ी में कभी अपने दिखते,
कभी, अपने पराये नजर आते है।

जब चाहिए होता एक सबल सहारा,
इक ओर हम, इक और लोग नजर आते है।
पल में अनजान बन जाता कोई अपना,
और कभी,पल में पराये अपने नजर आते है

बदलती है किस्मत, या बदल वक्त जाता है,
लोग कभी-कभी, हतप्रभ से नजर आते है।

#सरितासृजना

224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
"सवालों का उनके जवाब हम क्या देते?"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*प्रणय प्रभात*
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
Vijay kumar Pandey
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
बेरोजगारी का दानव
बेरोजगारी का दानव
Anamika Tiwari 'annpurna '
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
दोस्तों
दोस्तों
Sunil Maheshwari
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
VINOD CHAUHAN
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
हकीम बोला रकीब से
हकीम बोला रकीब से
पूर्वार्थ
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
" प्रेम "
Dr. Kishan tandon kranti
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
surenderpal vaidya
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...