Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न

राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही नहीं।

@जय लगन कुमार हैप्पी
बेतिया, बिहार

1 Like · 585 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
2713.*पूर्णिका*
2713.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
मज़हब नहीं सिखता बैर
मज़हब नहीं सिखता बैर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Below the earth
Below the earth
Shweta Soni
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
■ आज का दोहा...।
■ आज का दोहा...।
*प्रणय प्रभात*
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
यादें
यादें
Dr. Rajeev Jain
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
"बेजुबान का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...