Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 1 min read

राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar

हमारे नैन अब थकने लगे हैं
हम उनकी राह जो तकने लगे हैं

जवानी खत्म होती जा रही है
हमारे बाल अब पकने लगे हैं

इशक़ तो मानो लाइलाज ठहरा
दवा क्यों साथ फिर रखने लगे हैं

ये जग जब हो गया है बेस्वादी
नमक हम इश्क़ का चखने लगे हैं

सफ़र का अब यही अंजाम समझो
हमारे पैर अब थकने लगे हैं

दिलासा देकर उनके लौटने का
हम अपने आप को ठगने लगे हैं

हमें भी वो जरा बीमार हैं दिखते
दीवाने हम भी तो लगने लगे हैं

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

58 Views
You may also like:
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
सच
अंजनीत निज्जर
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
धूप में साया।
Taj Mohammad
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
न थी ।
Rj Anand Prajapati
✍️✍️दोस्त✍️✍️
"अशांत" शेखर
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
बदला
शिव प्रताप लोधी
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
योग करो।
Vijaykumar Gundal
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
आज अब्र भी कबसे बरस रहा है।
Taj Mohammad
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...