Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

राह चुनने का हमें……..

राह चुनने का हमें जब बोध होगा,
यात्रा में फिर नहीं अवरोध होगा॥

जीत पायें प्रेम से यदि शत्रु-मन को,
इससे बढ़कर और क्या प्रतिशोध होगा॥

टूट जाना क्रम कहीं संवाद का भी,
वार्ता के मार्ग में गतिरोध होगा॥

हो गईं क्यों कर अनैतिक नीतियाँ सब?
इस विषय पर बोलिए कब शोध होगा॥

है प्रयासों में सतत विश्वास लेकिन,
यह हमारा आखिरी अनुरोध होगा॥

“आरसी” और वो भी पत्थर के घरों में,
आपको सुनकर के विस्मयबोध होगा॥

-आर सी शर्मा “आरसी”

3 Comments · 314 Views
You may also like:
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
कलाकार की कला
Skanda Joshi
महेंद्र जी : संस्मरण एवं पुस्तक-समीक्षा
Ravi Prakash
करवा चौथ
VINOD KUMAR CHAUHAN
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
हो गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
कृष्ण अर्जुन संवाद
Ravi Yadav
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
गायक मुकेश विशेष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
✍️इंसाफ मोहब्बत का ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Divine's prayer
Buddha Prakash
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
एकता
Aditya Raj
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
अविरल आंसू प्रीत के
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
रफ्तार
Anamika Singh
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बर्षा रानी जल्दी आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! सांसें थमी सी !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
Loading...