Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

राह चुनने का हमें……..

राह चुनने का हमें जब बोध होगा,
यात्रा में फिर नहीं अवरोध होगा॥

जीत पायें प्रेम से यदि शत्रु-मन को,
इससे बढ़कर और क्या प्रतिशोध होगा॥

टूट जाना क्रम कहीं संवाद का भी,
वार्ता के मार्ग में गतिरोध होगा॥

हो गईं क्यों कर अनैतिक नीतियाँ सब?
इस विषय पर बोलिए कब शोध होगा॥

है प्रयासों में सतत विश्वास लेकिन,
यह हमारा आखिरी अनुरोध होगा॥

“आरसी” और वो भी पत्थर के घरों में,
आपको सुनकर के विस्मयबोध होगा॥

-आर सी शर्मा “आरसी”

3 Comments · 456 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बेफिक्र अंदाज
बेफिक्र अंदाज
SHAMA PARVEEN
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
The most awkward situation arises when you lie between such
The most awkward situation arises when you lie between such
Sukoon
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
आबरू भी अपनी है
आबरू भी अपनी है
Dr fauzia Naseem shad
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
2822. *पूर्णिका*
2822. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
प्रणय 3
प्रणय 3
Ankita Patel
मुझको उनसे क्या मतलब है
मुझको उनसे क्या मतलब है
gurudeenverma198
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
Loading...