Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

राहें

काली काली राहों में
दूंधली सी एक किरण की आस।
खो रहें हैं खुद में हम तो,
उजली सी सेहर की तलाश।

केह दे कोई ये हमसे
राहें सारी ऐसी ही हैं।
शायद कहीं हो जाए हमें,
यूंही चलते रहने से प्यार।

ख्वाबों के बोझ तले,
आँखें ये अब थकने को हैं।
मंजिल की प्यास में देखा नहीं,
हर मोड़ पे बेह रहा था आब।

– सिद्धांत शर्मा

Language: Hindi
3 Likes · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
एक साँझ
एक साँझ
Dr.Pratibha Prakash
RKASHA BANDHAN
RKASHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
Ravi Prakash
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
💐प्रेम कौतुक-394💐
💐प्रेम कौतुक-394💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
Vishal babu (vishu)
जगदम्ब शिवा
जगदम्ब शिवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुबह को सुबह
सुबह को सुबह
rajeev ranjan
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2816. *पूर्णिका*
2816. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पगली
पगली
Kanchan Khanna
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
त्योहार का आनंद
त्योहार का आनंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।
*Author प्रणय प्रभात*
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
गोधरा
गोधरा
Prakash Chandra
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
बिटिया  घर  की  ससुराल  चली, मन  में सब संशय पाल रहे।
बिटिया घर की ससुराल चली, मन में सब संशय पाल रहे।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...