Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2018 · 1 min read

“राहत”

माना की दर्द का इलाज अाँसू तो नही है,
मगर रो लेने दो आँखों को गर राहत मिले।

भटका किये उम्रभर हम श्मशानों में,
बैठ जाने दो पास गर रूह को राहत मिले।

बरसों रहे लब तनहा और उदास,
हँस लेने दो उन्हें गर जी को राहत मिले।

उड़ गया हवाओं में मेरा सुँकू ना जाने कहाँ,
बस जाने दो साँसों में गर नींद को राहत मिले।

पाकीज़ा है मेरे मन का कोना-कोना “सरिता”,
क्या बुरा उसको सोचकर गर जिस्म को राहत मिले।

गहरा है संमदर क़श्ती को इसका पता क्या,
डूब जाने दो क़श्ती को गर लहरों को राहत मिले।

उठाते है वो उगलियाँ छोटी बातों पर अक्सर,
हो जाय वो ही मसीहा गर उन्हें चैनों राहत मिले।

#सरितासृजना

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िन्दगी में कभी कोई रुह तक आप के पहुँच गया हो तो
ज़िन्दगी में कभी कोई रुह तक आप के पहुँच गया हो तो
शिव प्रताप लोधी
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पूछ मत प्रेम की,क्या अजब रीत है ?
पूछ मत प्रेम की,क्या अजब रीत है ?
Ashok deep
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
पिछले पन्ने 6
पिछले पन्ने 6
Paras Nath Jha
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच तो जिंदगी भर हम रंगमंच पर किरदार निभाते हैं।
सच तो जिंदगी भर हम रंगमंच पर किरदार निभाते हैं।
Neeraj Agarwal
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैंने एक चांद को देखा
मैंने एक चांद को देखा
नेताम आर सी
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
" सुनिए "
Dr. Kishan tandon kranti
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
जै हनुमान
जै हनुमान
Seema Garg
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Pratibha Pandey
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...