Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2016 · 3 min read

राष्ट्र हित में युवा लक्ष्य निर्धारित करें

राष्ट्र हित में युवा वर्ग लक्ष्य निर्धारित करे –

अनूठी सांस्कृतिक विरासत और गौरवमयी परम्पराओं से सुसज्जित इस देश के नागरिकों में न जाने क्यों अपने भारतीय होने पर गर्व की अनुभूति नहीं होती । उन्नीसवीं शताब्दी में अनेक महापुरुषों को जन्म देने वाली इस भारत भूमि में आज महापुरुष कहे जाने योग्य महानुभावों की गणना नगण्य है।
आज भारत में भौतिक क्षेत्र में असाधारण प्रगति हुई है । भारतीय भौतिक ढाँचे व रहन – सहन के तरीके में भी आधुनिक नाम का विशेष परिवर्तन आया है । लेकिन ये भौतिक परिवर्तन या प्रगति किसके लिए ? मानवता के विकास के लिए या अविकास के लिए ? यह प्रश्न इसलिए उठा क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में मानवीय मूल्यों में अप्रत्याशित गिरावट आयी है । नैतिक व अनैतिक व्यवहार में मनुष्य मानों भेद करना ही भूल गया है । ऐसे में समाज के बुद्धिजीवी वर्ग में देश के भविष्य के प्रति शंकाएँ उठने लगी हैं परिणामस्वरूप भौतिक प्रगति व्यर्थ प्रतीत होती है ।
किसी भी राष्ट्र की सबसे बड़ी पूँजी उसकी युवा शक्ति है । युवा वर्ग के सद्प्रयत्नों द्वारा ही राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा सकता है । देश का युवा वर्ग यदि राष्ट्र के भविष्य निर्माण के प्रति अपने कुछ सार्थक उत्तरदायित्व निश्चित करे तो अवश्य ही राष्ट्र सद्प्रगति की ओर उन्मुख होगा । इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए प्रत्येक युवक को अपने व्यक्तित्व निर्माण पर ध्यान केन्द्रित करना होगा । उसे विभिन्न चिन्ताओं और निराशाओं से निकलकर अपने स्वास्थ्य के प्रति गंभीर व चरित्र निर्माण के प्रति सजग होकर एक स्वस्थ व्यक्तित्व का निर्माण करना होगा । स्वस्थ व्यक्तित्व द्वारा ही वह एक स्वस्थ व प्रगति उन्मुख राष्ट्र का निर्माण कर सकता है ।
आज का युवा वर्ग उत्साहहीन व दिशाहीन दिखाई देता है । इसका कारण उसका किसी एक निश्चित लक्ष्य के प्रति संकल्पित न होना है । जबकि जीवन में सफल होने के लिए किसी एक लक्ष्य का निर्धारण आवश्यक है ।
एक निश्चित लक्ष्य निर्धारित न होने से युवकों में एक अकुलाहट आने लगती है । इस अकुलाहट को दूर करने व रिक्तता को पूरित करने के लिए वे अवांछनीय तत्वों के शिकार हो जाते हैं । ऐसा युवा वर्ग ही दिशाहीनता के कारण शिक्षित होकर भी आपराधिक घटनाओं में संलिप्त पाया जाता है ।
जो व्यक्ति अपने चरित्र का निर्माण एक लक्ष्य को निर्धारित करके उपयोगिता की दृष्टि से करता है वह भविष्य में कभी निराश नहीं होता । ऐसा व्यक्ति समाज और राष्ट्र का गौरव बनकर राष्ट्र की प्रगति में सहायक होता है । जीवन का एक निश्चित लक्ष्य होने से ही व्यक्ति की सारी सकारात्मक उर्जा उसी लक्ष्य की प्राप्ति में केन्द्रीभूत हो जाती है । ऐसे व्यक्ति के पास नकारात्मक विचारों से घिरने का समय ही नहीं बचता ।
लक्ष्य निर्धारण मनुष्य को आत्म संतोष व आत्मविश्वास प्रदान करता है । जिससे उसके अंदर पुरुषार्थ,कर्मठता व निर्भीकता उदित होती है । ऐसा युवक ही मानवता के आभूषण में एक अमूल्य नग का कार्य कर मनुष्य जीवन को सफल बनाता है । मानवता ऐसे व्यक्ति की सदैव कृतज्ञ रहती है ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली- 47
13/11/2016

Language: Hindi
Tag: लेख
461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
■ मेरे अपने संस्मरण
■ मेरे अपने संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
वास्तविक मौज
वास्तविक मौज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
इस बार फागुन में
इस बार फागुन में
Rashmi Sanjay
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
Jitendra Chhonkar
वतन के रखवाले
वतन के रखवाले
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-560💐
💐प्रेम कौतुक-560💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
अपनी समस्या का
अपनी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
शक्ति राव मणि
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
लक्ष्मी-पूजन
लक्ष्मी-पूजन
कवि रमेशराज
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
किराएदार
किराएदार
Satish Srijan
खुशियां
खुशियां
N manglam
एहसास
एहसास
Vandna thakur
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...