Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 2 min read

रावण

कहने वाले का साहस देखो
सुनने वाले का धैर्य देखो
ढील दे दो बढ़ा दो लम्बी
सुन सको सौर तो सुनो
वो काटा वो काटा
काटने वाले कि खुशी का ठिकाना
कटने वाले के गम का अफ़साना
लूटने वालों की आपाधापी धक्कम पेल
जब तक डोर हाथ में थी
पतंग पूर्ण नियंत्रण में थी
डोर कटी
और पतंग बेकाबू
बेकाबू और बेलगाम होने से
मर्जी हवा की
अवरोध आने तक जीवित है
दरख़तों पर लटके अवशेष
या की पाँच दस हाथों द्वारा
टुकड़े टुकड़े किये शेष
ना तेरी ना मेरी
उतरे चेहरे दुःख और संतुष्टि
इंसान की इतनी सी तुष्टि
अँगूर खट्टे हैं
मिल जाते तो रसीले
मीठे- मीठे पीले -पीले
वैसे असल जिंदगी में
हम भी कनकौए से अलग नहीं हैं
एक दूसरे से लड़ते हैं
या लड़वाते हैं
एक होकर उड़ने का आनन्द नहीं
लेते
जिओ और जीने दो का पालन नहीं करते
प्रतिस्पर्धा टिकने की
अपना और पराया
आज नहीं तो कल
शेर को सवाशेर
घृणा द्वेष या संतुष्टि
कोई कब तक टिक पायेगा
सोचने की जरूरत नहीं
कुछ कहने की जरूरत नहीं
हमें समझना है
और हवा में देर तक टिकना है
तो हमें अपनी समझ के
दायरे को बढ़ाना होगा
इंसान को बंटते देखा
धर्म में जाति में
गिनाने बैठूंगा तो
भेद में अभेद हो जाएगा
सबसे बुरे दिन देखो
अब कवि भी बँटने लगे
कोई इकाई अव्वल हो गई
कोई कवि धुरन्धर हो गए
किसी के बोल सुन्दर हो गए
हम ठहरे गँवार
जज्बात दिल में दबा कर रह गए
अपनी एक पहचान हो
ठीक है
हम कवि हैं
हमारी कैसी होढ़
किससे होढ़
मेरे लिए तो लिखना ही गर्व की बात है
सिद्ध होता यहीं
जिंदा हममें जज़्बात हैं
इनको जिंदा ही रहने दो
विश्वास और साहस की जरूरत
हमें नहीं
भाव काफ़ी हैं
बुलन्दी छूने की चाहत नहीं
लिखते रहने की चाहत है
रावण और विभीषण को
समझना होगा
विभीषण केवल कृपा पात्र बने
और
राम के हाथों मरकर
रावण मोक्ष के अधिकारी
एक भक्त एक विकारी
किसने क्या खोया क्या पाया
ये जग जानता है
आज भी विभीषण को
घर का भेदी मानता है
भाई का विश्वास खोकर
उसे मिला क्या
युद्ध की विभीषिका से
उजड़ी लंका
भ्रातृ हन्ता कहने वाली जनता
रोम रोम रोया होगा
राजमहल कैसे सुहाया होगा
ये तो स्वयं विभीषण ही जानें
रावण आज भी दशानन है
जलकर भी जिंदा है
विभीषण को चिढ़ाने को
हर वर्ष आता है
बुराई पर अच्छाई की जीत को
अच्छे से समझाता है
हम अपने मजे की खातिर
पुतले में लगा सुतली
बड़म बड़ाम सुर फुस
जिसे जलना था जल गया
केवल पुतला जला घर गया
सोचो हम कर क्या रहे हैं
क्या जला रहे हैं
क्यों जला रहे है
हम खुद में छुपे रावण को जिंदा रख
दशहरा मना रहे
हम खुद में छुपे रावण को जिंदा रख
दशहरा मना रहे

#भवानी सिंह भूधर

Language: Hindi
1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
🙅ताज़ा सुझाव🙅
🙅ताज़ा सुझाव🙅
*Author प्रणय प्रभात*
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
3116.*पूर्णिका*
3116.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
*रणवीर धनुर्धारी श्री राम हमारे हैं【हिंदी गजल/गीतिका】*
*रणवीर धनुर्धारी श्री राम हमारे हैं【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
Loading...