Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।

राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
हँसी-खुशी से फिर जियो, जीवन बेपरवाह।।

© सीमा अग्रवाल

Language: Hindi
2 Likes · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*प्रणय प्रभात*
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीने का हक़!
जीने का हक़!
कविता झा ‘गीत’
2664.*पूर्णिका*
2664.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
*भक्ति के दोहे*
*भक्ति के दोहे*
Ravi Prakash
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
मां तो फरिश्ता है।
मां तो फरिश्ता है।
Taj Mohammad
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
समुन्दर को हुआ गुरुर,
समुन्दर को हुआ गुरुर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"जिंदगी"
नेताम आर सी
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
"बेकसूर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...