Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 2 min read

राम : लघुकथा

जग में घोर निराशा थी,
तात दशरथ को आशा थी।
लेकिन! युक्ति दुराशा थी,
मन में प्रबल अभिलाषा थी।।

पुत्रकामेष्टि यज्ञ हुआ,
यजमान यज्ञ फलित हुआ।
दिन पर दिन व्यतीत हुए।
परिणाम आशातीत हुए।

दशरथ अंगना गूँज उठा
किलकारियों से मन खिल उठा।
दशरथ के वारे-न्यारे हुए।
बालक उनके चार हुए।

शुभ समाचार पाकर नगरी,
जन मन खुशी से चकरी।
कौशल्या के राम हुए
भरत कैकेयी के लाल हुए
लखन शत्रुघ्न सौमित्र हुए।

अवध नगरी शोभा भारी,
जन्में राम यहाँ अवतारी।
खुश थी तीनों महतारी,
भाग्य बजा रहा करतारी।।

ज्यों- ज्यों बाल बड़े हुए
नटखटपन तुतलाना घुटरूँन चलना
देख नगर-परिजन आनंदित हुए।

विश्वामित्र ने बालक मांगे
राजन! रक्षा हेतु राम-लखन,हमें दे दो।
तात मन शंकित हुआ
चले राम साथ लखन सहित।
वन में जा निशाचर मारे।

जनकसुता का समाचार पाकर
चले विश्वामित्र, राम-लखन
वाटिका में मैथिली से भेंट हुई
नयनों का नयनों से सम्भाषण हुआ।

दरबार जनक में भूपेंद्र भारी,
वहाँ मौजूद रावण अत्याचारी।
शिव धनुष पर प्रत्यंचा चढाये,
उसी गलें सीता वरमाला आये।।

सब भूप मद चूर हुआ
रावण यह देख क्रोधी हुआ
उठा उठाने अहंकार से
शिव धनु हिल न सकी।
अपमानित होकर बैठ गया।
जनक चकित दुखित हुए।

विश्वामित्र ने आज्ञा दी
राम उठ सभा नमित हुए
ध्यान शिव का, कर धनु स्पर्श किया
हुआ भंग धनुष,सीता मन फूल ऊठा।
हुआ थोड़ा हंगामा भारी
सुन परशुराम की ललकारी।

बुला दशरथ ने राम को
सोचा सौपें अब राज को
तय सब था पर मंथरा की कुटलाई ने
राम को वनवास दिया।

वन में सीता हर ली रावण ने,
ली शपथ स्वयंवर में ही रावण ने।
राम- व्यथित व्याकुल हुए
सुग्रीव हनुमान सहायक हुए।

रावण की ललकार मिली
भुजा राम की फड़क उठी।
घनघोर रण कोलाहल उठा
धरा डगमग होने लगी
भीषण रण में रक्तपात
गिरती चपला अशनिपात
खड़ग धार लहू की प्यासी
कट रहे धड़ भुजा मूंड राशि
ओज राम का आज रहा
अवनि को अम्बर झाँक रहा।
कट-कट गिरती भुजा रावण की
मूंड पड़ रहे अस्त-व्यस्त
हुआ किला लंका का ध्वस्त।
उद्धार जानकी का कर राम
लौट आए अयोध्या धाम।

राम ने संसार को
सिखा दिया जीवन का गान।
भाई से भाई का प्यार
माता की आज्ञा शिरोधार्य
पिता वचन का मान रखा।
परिवार समाज देश का महत्व
बड़ा नहीं निज का अस्तित्व
कर्तव्य पथ युगानुरूप विस्तृत
डगमग न होना कर्तव्य से
अधिकार न माँगना बस
कर्तव्य पथ चलते जाना।
न्याय धर्म की शरण बड़ी है
विलासिता मुँह खोल खड़ी है
कर्म धर्म की ही जड़ जीवित है
हर युग में कर्म ही जीवित है।
भाग्य न बदलते अकर्मण्य के।
प्राप्य है सब कर्मण्य को।

Language: Hindi
1 Like · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
💐अज्ञात के प्रति-103💐
💐अज्ञात के प्रति-103💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
VINOD CHAUHAN
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
"रफ-कॉपी"
Dr. Kishan tandon kranti
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
3194.*पूर्णिका*
3194.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
#  कर्म श्रेष्ठ या धर्म  ??
# कर्म श्रेष्ठ या धर्म ??
Seema Verma
क्या करते हो?
क्या करते हो?
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
Loading...