Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

*राम महान थे (गीत)*

राम महान थे (गीत)
_________________________
धन्य-धन्य है भारत जिस पर, जन्मे राम महान थे
(1)
चैत्र शुक्ल की नवमी को अवतरित राम सुखदाई
हवन और ऋषियों ने इनके बल से रक्षा पाई
इन्हें राजसिंहासन या वन, दोनों एक समान थे
(2)
आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी को रावण था मारा
सच्चे रामबाण से सोने का मालिक यों हारा
लौटे राम अमावस्या को, कार्तिक के गुणगान थे
(3)
यह थे जिनका राज विश्व में, रामराज्य कहलाया
निर्भय और सुखी शासन था, सबकी निर्मल काया
रामराज्य में सर्वसुलभ शुभ, सबको न्याय-विधान थे
धन्य-धन्य है भारत जिस पर, जन्मे राम महान थे
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
कविता
कविता
Rambali Mishra
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
2455.पूर्णिका
2455.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
"इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-58💐
💐अज्ञात के प्रति-58💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...