Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2020 · 2 min read

राम नाम ही बोलिये, महावीरा

राम नाम ही बोलिये, हित सबका ही होय (- 2 बार)
राम नाम है वो सुधा, जिसका तोड़ न कोय……
महावीरा जिसका तोड़ न कोय……

लोग जहाँ प्रसन्न नहीं, वहाँ न जाओ आप (- 2 बार)
जिया रमाओ राम में, मिटें सभी सन्ताप……
महावीरा मिटें सभी सन्ताप……

देह जाय तक थाम ले, राम नाम की डोर (- 2 बार)
फैले तीनों लोक तक, इस डोरी के छोर……
महावीरा इस डोरी के छोर……

तन की आभा वस्त्र है, मन की शोभा बात (- 2 बार)
उत्तम बातें कीजिये, याद रहे दिनरात……
महावीरा याद रहे दिनरात……

त्याग दिए जिसने व्यसन, वो नर बने महान (- 2 बार)
राज सुखों को त्याग कर, बढ़ी राम की शान……
महावीरा बढ़ी राम की शान…….

सुःख-दुःख में जो मित्र के, आते हर पल काम (- 2 बार)
प्रभु उनके संकट हरे, प्रसन्न उनसे राम……
महावीरा प्रसन्न उनसे राम…….

गुण-अवगुण के साथ यदि, करते सोच-विचार (- 2 बार)
अच्छे मानव आप हैं, उत्तम यह व्यवहार……
महावीरा उत्तम यह व्यवहार……

अपशब्दों से होत है, चरित्र की पहचान (- 2 बार)
गुस्से में अपशब्द का, रखिए हर पल ध्यान……
महावीरा रखिए हर पल ध्यान…….

छल है, माया रूप है, सब मिथ्या संसार (- 2 बार)
राम नाम से नेह कर, बाक़ी सब बेकार……
महावीरा बाक़ी सब बेकार…….

राम भक्ति वो फूल है, जिसका फल है ज्ञान (- 2 बार)
वर दे उनको शारदे, वो सब हैं विद्वान……
महावीरा वो सब हैं विद्वान…….

जिसने पाया राम को, उसे न जग से काम (- 2 बार)
जिसको लागी राम धुन, वो पाए सुखधाम……
महावीरा वो पाए सुखधाम…….

भक्तों में हैं कवि अमर, स्वामी तुलसीदास (- 2 बार)
‘रामचरित मानस’ रचा, राम भक्त ने ख़ास……
महावीरा राम भक्त ने ख़ास…….

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 790 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
*यह थाली के बैंगन हैं, हर समय लुढ़कते पाएँगे(हिंदी गजल/गीतिक
*यह थाली के बैंगन हैं, हर समय लुढ़कते पाएँगे(हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
#जिज्ञासा-
#जिज्ञासा-
*Author प्रणय प्रभात*
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
आंधियां अपने उफान पर है
आंधियां अपने उफान पर है
कवि दीपक बवेजा
2273.
2273.
Dr.Khedu Bharti
हल्ला बोल
हल्ला बोल
Shekhar Chandra Mitra
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...