Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,

राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
लिया आज़मा देख,
राम ही असली नाम है,
बाकी सब कुछ है फेक।

(C)@ दीपक नीलपदम्

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
जिसे तुम ढूंढती हो
जिसे तुम ढूंढती हो
Basant Bhagawan Roy
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
Rj Anand Prajapati
सफलता
सफलता
Raju Gajbhiye
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
#चुनावी_दंगल
#चुनावी_दंगल
*Author प्रणय प्रभात*
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
Loading...