Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

*****रामलला*****

मंगल पावन बेला आई
रघुनंदन को संग ले आई
अवध में लाखों दीप जले
धन्य हुई तब सरयू माई।

जगमग अनगिनत दीप जले
गृह,नगर वंदनवार से सजे
प्रखर रवि से नभ पे छाये
हर्ष,अपार संग प्रभु आये।

ढोल,नगाड़े व ताशे बाजे
मुख उज्जवल सी आभा साजे
रम्य छवि तो बरबस ही निहारें
जय श्री राम जनजन पुकारें

नभ भी सादर अभिनंदन करता
रघुनाथ जी का स्वागत करता
भू धरा सब हाथ जोड़े खड़े
संग लिये सुमन,कुमकुम धरे।

राममयी हुई दुनिया सारी
रामलला की सूरत न्यारी
सज उठी अयोध्या दुल्हन सी
जानकी,लखन ,रघुवीर जी

छवि रघुवीर की यूँ निहारूं
सियाराम मन ही पुकारूं
सजीव नयन कुछ बोल रहे
हॄदय में अमृत घोल रहे।

धर्म, आस्था आज विजयी हुई
असत्य,मिथ्या यूँ पराजित हुई
प्रभु चरण सम कमल तिहारे
आज अवध रामलला पधारें।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
आबरू भी अपनी है
आबरू भी अपनी है
Dr fauzia Naseem shad
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
★आईने में वो शख्स★
★आईने में वो शख्स★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2447.पूर्णिका
2447.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
अंकित के हल्के प्रयोग
अंकित के हल्के प्रयोग
Ms.Ankit Halke jha
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
#सच्ची_घटना-
#सच्ची_घटना-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-211💐
💐प्रेम कौतुक-211💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
Loading...