Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Dec 2023 · 2 min read

रात

रात
————
गुड़िया का जन्मदिन था। गुड़िया के पिता जी ने गुड़िया को उपहार में साईकिल लाकर दी। नयी साईकिल पाकर गुड़िया बहुत खुश हुई।
रविवार का दिन था। गुड़िया ने देर तक साइकिल चलाई और अपनी सहेलियों के साथ साइकिल रेस भी लगायी। नयी साईकिल की खुशी इतनी अधिक थी कि गुड़िया साइकिल को खुद से जरा देर भी अलग नहीं करना चाहती थी।
कुछ देर बाद साइकिल का खेल खेलते-खेलते अचानक गुड़िया गिर गयी। गिरने के बाद उसे अधिक चोटें आयीं।
अभिभावक ने तुरन्त डॉक्टर को दिखाया। उपचार के बाद डॉक्टर ने आराम करने की सलाह दी तो गुड़िया परेशान होकर माँ से बोली-, “माँ! अब हम स्कूल कैसे जायेंगे?”
माँ ने समझाते हुए कहा कि-, ” परेशान न हो, ठीक हो जाओगी। तब स्कूल पहले की तरह रोज़ जाना। अभी घर पर रहकर ही कुछ दिन पढ़ाई करो।”
जैसे-जैसे समय बीता, गुड़िया की बैचेनी बढ़ती गयी। उसे स्कूल से बहुत लगाव था। पढ़ाई-लिखाई में भी गुड़िया नम्बर वन थी।
रात का समय था। गुड़िया चुपचाप बैठी थी। माँ ने कहा-, ” गुड़िया! तुम उदास क़्यों हो? अब तो तुम ठीक हो रही हो।”
“हाँ, माँ! मैं ठीक तो हो रही हूँ, पर हुई नहीं हूँ। हम ठीक होकर स्कूल जाना चाहते है माँ! आखिर हम कब स्कूल जाने लायक हो जायेंगे?”
इतना कहकर गुड़िया रोने लगी।
माँ ने गुड़िया के आँसू पोंछे और प्यार से समझाया कि-, ” बेटा! देखो, जैसे रात के बाद सुबह आती है.. ये रात का अँधेरा उजाला में बदल जाता है, ठीक इसी तरह तुम जल्द ही ठीक हो जाओगी। ये दु:ख-सुख भी समय बदलते ही बदल जायेगा।”
गुड़िया को बात समझ में आ गयी और मुस्कुराते हुए बोली-, ” ठीक है माँ! हम अब रोयेंगे नहीं। जल्द से ठीक होने की कोशिश करेंगे और कभी गलत तरीके से कोई खेल नहीं खेलेंगे।

शिक्षा-
हमें कोई ऐसा कार्य नहीं करना चाहिए, जिसके कारण हमारी पढ़ाई बाधित हो।

शमा परवीन
बहराइच (उत्तर प्रदेश)

1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"त्रिशूल"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
मतदान
मतदान
Anil chobisa
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
💐प्रेम कौतुक-532💐
💐प्रेम कौतुक-532💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
नया साल
नया साल
umesh mehra
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बालरूप श्रीराम (कुंडलिया)*
*बालरूप श्रीराम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"तानाशाही"
*Author प्रणय प्रभात*
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...